कर्तुं त्वयि इत्यस्मिन् कथं सप्तमीविभक्तिः (to do to you – why saptamii vibhakti?)

तदाशु कर्तुं त्वयि जिह्ममुद्यते विधीयतां तत्र विधेयमुत्तरम्।
परप्रणीतानि वचांसि चिन्वतां प्रवृत्तिसाराः खलु मादृशां गिरः॥किरातार्जुनीयम् १.२५॥
अत्र कथं त्वयि इत्यस्मिन् सप्तमीविभक्तिः भवति। कृपया बोधयतु।

इसलिय तुम्हारे प्रति कुटिल करने को तत्पर है। दुर्योधन के बारे में करने योग्य प्रतिक्रिया शीघ्र कीजिए। दूसरों के द्वारा कहे गए वचनों को इकट्ठा करने वाले मुझ जैसे गुप्तचरों के वचन बताने वाले सूचना देने वाले निश्चय ही (हैं)।

२०१९-०२-१० रविवासरः (2019-02-10 Sunday)

Advertisements