कृच्छ्रेण च नीरोगतां नीतः। (With difficulty he became well.)

पञ्चतन्त्रे युधिष्ठिर-कुम्भकारकथायाम् –
ततः कर्परकोट्या पाटितललाटो रुधिरप्लावितनुः कृच्छ्रादुत्थाय स्वाश्रयं गतः।
खपडे की नोंक उसके ललाट में धंस गयी और खून से लथपथ होकर बडी कठिनाई से वह उठा और अपने घर चला अया।
कृच्छ्रेण च नीरोगतां नीतः। बडी मुश्किल से वह अच्छा हुआ।
करणे च स्तोकाल्पकृच्छ्रकतिपयस्याऽसत्त्ववचनस्य॥२।३।३३॥

कृच्छ्रhttps://sa.wiktionary.org/wiki/कृच्छ्र
२०१७-१२-२८ गुरुवासरः (2017-12-28 Thursday)

Advertisements