निवहः (A group)

सुकुलं कुशलं सुजनं विहाय कुलकुशलशीलविकलेऽपि।
आढ्ये कल्पतराविव नित्यं रज्यन्ति जननिवहाः॥पञ्चतन्त्रम्॥
जननिवहाः जनानां निवहाः सङ्घाः। (पण्डितराजेश्वरशास्त्रिकृतया किरणावली व्याख्या।)
आढ्ये कल्पतरौ इव।
सदाचारी मनुष्य, कुलीनता, कुशलता तथा सदाचारयुक्त सज्जनता आदि गुणों से युक्त पुरुष को छोडकर, कुलीनता, दक्षता, एवं सद्गुणों से रहित धनवान् पुरुषमें कल्पवृक्ष की तरह अनुराग करते हैं उसे प्रसन्न करते हैं।

२०१६-०२-२३ मङ्गलवासरः (2016-02-23 Tuesday)